पिता का सपना पूरा करने के लिए MBBS छोड़ की UPSC की तैयारी, 2 बार हुईं फेल, फिर…

अपने सपनों को पूरा करने के लिए तो हर कोई संघर्ष करता है, लेकिन जो लोग मां-बाप के अधूरे सपने को पूरा करते हैं, उनकी सफलता और भी खास हो जाती है. ऐसी ही एक अफसर की कहानी हम आपको बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपने पिता के सपने को पूरा करने के लिए एमबीबीएस तक की पढ़ाई छोड़ दी थी.

ये अधिकारी हैं मानसी सोनावणे, जो महाराष्ट्र के औरंगाबाद की रहने वाली हैं। मानसी ने अपनी स्कूली पढ़ाई नासिक से पूरी की है, जबकि उन्होंने औरंगाबाद के गवर्नमेंट कॉलेज से आर्ट्स में ग्रेजुएशन किया है।

मानसी के पिता एक अकाउंटेंट हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि वह खुद सिविल सर्विसेज में जाना चाहते थे, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली. मानसी ने 12वीं के बाद मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट पास कर ली थी और एमबीबीएस में दाखिला ले रही थी।

लेकिन अपने पिता के अधूरे सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने एमबीबीएस छोड़कर आर्ट्स में एडमिशन लिया और सिविल सर्विसेज की तैयारी करने लगीं।

मीडिया से बात करते हुए मानसी कहती हैं कि उन्होंने ग्रेजुएशन के बाद से ही सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर दी थी. पहले साल में उन्हें परीक्षा और यूपीएससी चयन प्रक्रिया के बारे में समझ आया. उन्होंने अपनी तैयारी एनसीईआरटी की किताबों से शुरू की और फिर रेफरेंस बुक्स की मदद ली।

ग्रेजुएशन के तुरंत बाद, वह यूपीएससी परीक्षा में शामिल हुईं। वह मीडिया इंटरव्यू में बताती हैं कि, पहले साल उन्होंने परीक्षा को समझने के लिए पेपर दिया था। दूसरे प्रयास में वह सफल नहीं हो सकीं क्योंकि उनसे कुछ गलतियां हो गईं. अपनी गलतियों से सीखते हुए उन्होंने तीसरे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास कर ली.

उन्होंने यूपीएससी 2021 परीक्षा में 627वीं रैंक हासिल की। उन्हें भारतीय रक्षा लेखा सेवा में रक्षा लेखाकार के रूप में चुना गया था। मानसी की कहानी हमें सिखाती है कि लक्ष्य हासिल करने के लिए जोखिम लेने से पीछे नहीं हटना चाहिए और असफलता के बाद भी हार नहीं माननी चाहिए, बल्कि प्रयास करते रहना चाहिए, एक दिन हमें सफलता जरूर मिलेगी।

MY NAME IS ADITYA KUMAR MISHRA I AM A UPSC ASPIRANT AND THOUGHT WRITER FOR MOTIVATION

Related Posts

तीन पुश्तों की परंपरा…दादा, पापा, चाचा सभी सिविल सेवा में, पति भी मिला IRS तो खुद भी बन गईं सिविल सेवक  UPSC MOTIVATION

संस्कृति के पिता फिलहाल कर्नाटक में ACS संस्कृति सिंह के परिजन और पेट्रोल पंप मालिक पप्पू सिंह ने बताया कि उसने कर्नाटक में एडिशनल चीफ सेक्रेटरी राकेश…

UPSC STORY: चाय बेचने से IAS बनने तक… आपकी सोच बदल देगी ये कहानी

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा पास करके आईएएएस-आईपीएस बनने वाले कई लोगों के संघर्ष की दास्तान लाखों युवाओं को मेहनत करने और डटे रहने की प्रेरणा देती हैं….

मां के लिए बनना था IAS, लेकिन वो चली गईं.. रुला देगी UPSC 2023 सेकंड टॉपर अनिमेष प्रधान की कहानी

जानिए UPSC Animesh Pradhan के बारे में अनिमेष प्रधान ने कैसे की सिविल सेवा की तैयारी? यूपीएससी सीएसई 2023 रिजल्ट आने के बाद मीडिया इंटरव्यू में अनिमेष…

प्रशासनिक सेवा का ऐसा जुनून, अमेरिका में छोड़ दी 70 लाख की नौकरी, अब UPSC के दूसरे प्रयास में पाई सफलता

संघ लोक सेवा आयोग द्वारा पिछले महीने जारी किए गए UPSC एग्जाम 2023 के परिणाम में कई होनहारों ने कड़े प्रयास के दम पर सफलता पाई है….

22 साल की उम्र में बनीं IAS, हासिल की ऑल इंडिया 28वीं रैंक IAS Chandrajyoti Singh

IAS Chandrajyoti Singh UPSC Success Story: आईएएस ऑफिसर चंद्रज्योति सिंह ने ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद यूपीएससी की तैयारी के लिए एक साल का समय लिया…

UPSC MOTIVATION :-माता के निधन से टूट गई थीं रूपल, फिर शिद्दत से की मेहनत, अफसर बन मां को दी सच्ची श्रद्धांजलि

दिल्ली पुलिस में तैनात एएसआई जसवीर राणा की बेटी रूपल राणा ने यूपीएससी की परीक्षा में 26वां रैंक हासिल किया है. जसवीर राणा तिलक नगर थाने में…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *