बजट क्या है ? (What is a Budget) FOR UPSC

बजट क्या है ? (What is a Budget)

भारत के संविधान में कहीं भी ‘बजट’(Budget) शब्द का इस्तेमाल नहीं किया गया है, लेकिन अनुच्छेद 112 में भारत के केन्द्रीय बजट को वार्षिक वित्तीय विवरण या Annual Financial Statement कहा गया है. इसे बोलचाल की भाषा में आम बजट ( Union Budget या केन्द्रीय बजट)  कहा जाता है. दरअसल, बजट में अनुमानित प्राप्तियों और खर्चों का उस साल के लिए सरकार का विस्तृत ब्योरा लिखा जाता है. इसे प्रत्येक वर्ष फरवरी के पहले कार्य-दिवस को भारत के वित्त मंत्री द्वारा संसद में पेश किया जाता है.

कहां से आया ‘बजट’ शब्द : 

  • ‘बजट’ शब्द की उत्पत्तिफ्रेंच शब्द ‘Bougete’ से हुई है, जिसका अर्थ ‘चमड़े का बैग’ होता है. दरअसल, 1733 में जब ब्रिटिश प्रधानमंत्री एवं वित्त मंत्री (चांसलर ऑफ एक्सचेकर) रॉबर्ट वॉलपोल संसद में देश की माली हालत का लेखाजोखा पेश करने आए, तो अपना भाषण और उससे जुड़े दस्तावेज चमड़े के एक बैग (थैले) में रखकर लाए. चमड़े के बैग को फ्रेंच भाषा में ‘Bougete’ (बुजेट) कहा जाता है. बस, तभी से इस परंपरा को पहले बुजेट और फिर इस समय तक आते-आते ‘बजट’ कहा जाने लगा.

बजट के प्रकार :

बजट पांच प्रकार के होते हैं:
 1. पारंपरिक अथवा आम बजट
2. निष्पादन बजट
3. शून्य आधारित बजट
4. परिणामोन्नमुख बजट
5. लैंगिक या जेंडर बजट

पारंपरिक बजट या आम बजट (Common Budget)

हर साल वित्त वर्ष के प्रारंभ से पहले यह बजट पेश किया जाता है. इस बजट का मुख्य उद्देश्य सरकारी खर्चो पर नियन्त्रण करना तथा विकास कार्यों को गति प्रदान करने के साथ-साथ विधायिका और कार्यपालिका पर वित्तीय नियंत्रण स्थापित करना भी है. इस बजट में सरकार की आय और व्यय का वार्षिक लेखा जोखा होता है.

निष्पादन बजट (Performance Budget)

निष्पादन बजट कार्य के परिणामों को ध्यान में रखते हुए जो बजट निकाला जाता है वह निष्पादन बजट (Performance Budget) कहलाता है। इस बजट का मुख्य उद्देश्य सरकार जिन कार्यों को पूरा करना चाहती है उस पर आधारित होता है| निष्पादन बजट में सरकार क्या कर रही है। कितना कर रही है तथा कितनी कीमत पर कर रही है इन साभी बातों को बताती है। इस बजट को उपलब्धि बजट या कार्यपूर्ति बजट भी कहा जाता है |

शून्य आधारित बजट (Zero Base Budget)

निष्पादन बजट का क्रियान्वयन सही से नहीं हो होने पर शून्य आधारित बजट लाया जाता है. जब आम बजट पूरी तरह से घाटे में जाने लगता है। मतलब कि आय कम और व्यय अधिक होने की स्थिति में यह बजट जारी किया जाता है, जिससे व्ययों परकटौती करके घाटों पर अंकुश लगाया जा सके .

परिणामोन्मुखी बजट (आउटकम बजट)

देश की जनता के लिए शुरू की गयी योजनाएं कहां तक पहुंची? लक्ष्य मिला या नहीं इसके लिए कोई खास पैमाना नहीं होने के चलते ही 2005 में यह Outcome Budget लाया गया. जिसके तहत आम बजट में आवंटित धनराशि का विभिन्न मंत्रालयों और विभागों ने क्या और कैसे उपयोग किया इसका ब्योरा देना आवश्यक कर दिया गया. 

लैंगिक बजट  (Gender Budget)

महिला और शिशु कल्याण से सम्बंधित योजनाओं और कार्यक्रमों का आवंटन लैंगिक बजट के अंतर्गत लाया गया है. लैंगिक बजट से सरकार महिलाओं के विकास, कल्याण और सशक्तिकरण से संबंधित योजनाओं और कार्यक्रमों के लिए प्रतिवर्ष एक निर्धारित राशि की व्यवस्था सुनिश्चित करती है.

 बजट क्यों है ज़रूरी (Importance Of  Budget)

  • संविधान में किए गये प्रावधानों के अनुसार, केन्द्र सरकार प्रति वर्ष अपने कार्यकाल का वार्षिक लेखा-जोखा संसद में पेश करती है. इस लेखा-जोखा में जहां एक तरफ वह अपनी वार्षिक आमदनी बताती है वहीं दूसरी तरफ वह अपने एक साल के खर्च का पूरा उल्लेख करती है. इस पूरे लेखा-जोखा को आम बजट या पूर्ण बजट कहा जाता है.  बजट में  प्रत्येक मंत्रालय को धन का आवंटन किया जाता है. बजट में निर्धारित की गयी राशि से अधिक धन व्यय नहीं किया जा सकता है, यदि अधिक धन की आवश्यकता होती है, तो संसद से पुनः स्वीकृति लेनी होती है. बजट द्वारा आवंटित की गयी राशि के साथ योजनायें चालाई जाती हैं और इन योजनाओं का लाभ आम जनता को दिया जाता है.

कौन बनाता है बजट?

  • बजट बनाने में वित्त मंत्रालय, नीति आयोग और सरकार के अन्य मंत्रालय शामिल होते हैं. इन्हीं के परामर्श से यह तैयार होता है. वित्त मंत्रालय खर्च के आधार पर गाइडलाइन जारी करता है. मंत्रालयों को अपनी-अपनी आवश्यकताओं को बताना होता है. वित्त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के विभाग पर बजट को बनाने की जिम्मेदारी होती है. बजट को अंतिम रूप देने से कुछ दिन पहले वित्त मंत्रालय में एक बड़ी कढ़ाई में हलवा बनाया जाता है.  जिसे ‘हलवा रस्म’ कहा जाता है, बजट तैयार करने की प्रक्रिया से प्रत्यक्ष तौर पर जुड़े मंत्रालय के अधिकारियों को हलवा समारोह के बाद मंत्रालय में ही रहना पड़ता है. 

कैसे बनता है बजट?

  •  सभी केंद्रीय मंत्रालयों, राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों, स्वायत्त निकायों, विभागों और रक्षा बलों को बजट के  आवंटन के लिए सर्कुलर जारी किया जाता है. इनसे अगले वर्ष के अनुमानों को बनाने के लिए कहा जाता है. मंत्रालयों और विभागों की मांगें आने के बाद केंद्रीय मंत्रालयों और वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग के बीच गहन चर्चा की जाती है.

बजट की प्रक्रिया (Process Of  Budget)

  • बजट को वित्त विधेयक द्वारा पेश किया जाता है. वित्त विधेयक केवल लोकसभा में ही पेश किया जा सकता है. बजट लोकसभा में पास होने के बाद राज्य सभा के पास स्वीकृति के लिए भेजा जाता है, यदि राज्य सभा इस पर 14 दिन के अंदर स्वीकृति प्रदान नहीं करती है, तो बजट को पास मान लिया जाता है, और वित्तीय वर्ष की पहली तिथि को बजट में किये गए प्रावधान पूरे देश में लागू कर दिया जाता है.


कैसे होता है बजट पेश ?

  • सरकार द्वारा बजट पेश करने की तारीख पर स्पीकर से सहमति ली जाती है. इसके बाद लोकसभा सचिवालय के महासचिव राष्ट्रपति की मंजूरी लेते हैं. वित्त मंत्री लोकसभा में बजट पेश करते हैं. बजट पेश करने से ठीक पहले वह ‘समरी फॉर द कैबिनेट’ के जरिए बजट के प्रस्तावों पर कैबिनेट को संक्षेप में बताते हैं. वित्त मंत्री के भाषण के बाद सदन के पटल पर बजट रख दिया जाता है.
क्या होता है संसद में बजट पेश किए जाने के बाद ?
  • बजट भाषण के पढ़े जाने के बाद बजट उपायों पर एक आम चर्चा होती है. बहस में हिस्सा लेने वाले सदस्य बजट के प्रस्तावों और नीतियों पर चर्चा करते हैं. इस दौरान विभागों की स्थायी समितियां मंत्रालयों के अनुमानित खर्चों का विस्तार से अध्ययन करती हैं, इन्हें डिमांड्स फॉर ग्रांट्स (अनुदान मांग) कहा जाता है.
MY NAME IS ADITYA KUMAR MISHRA I AM A UPSC ASPIRANT AND THOUGHT WRITER FOR MOTIVATION

Related Posts

पिता ने ठेले पर सब्जी बेचकर पढ़ाया, मृणालिका ने हासिल की 125वीं रैंक | UPSC MOTIVATION

जयपुर में रहने वालीं मृणालिका राठौड़ ने 16 अप्रैल को जारी हुए संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की सिविल सेवा परीक्षा में 125वीं रैंक हासिल की है।…

UPSC Topper Aishwarya: विशाखापट्टनम में इंजीनियर हैं अभी, दूसरे अटेंप्ट में क्लियर किया एग्जाम

UPSC Result 2023 महराजगंज जिले के बहदुरी के टोला मंझरिया की रहने वाली ऐश्वर्यम प्रजापति ने यूपीएससी की परीक्षा में 10वां रैंक लाकर क्षेत्र का नाम रोशन…

कौन हैं UPSC CSE Topper आदित्य श्रीवास्तव? 2017 से कर रहे थे सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी

सिविल सेवा परीक्षा 2023 का रिजल्ट आ गया है। इस परीक्षा में कुल 1016 लोगों ने बाजी मारी है। हालांकि परिणाम आने के बाद सभी टॉपर के…

UPSC CSE Result Live Update यूपीएससी सिविल सर्विस का फाइनल रिजल्ट जारी होने वाला है

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) जल्द ही सिविल सेवा 2023 परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी करने वाला है। जो इस परीक्षा में शामिल हुए थे वो आधिकारिक…

UPSC Prepration Tips: नौकरी के साथ कैसे करें यूपीएससी की तैयारी?

भारतीय वन सेवा (आईएफएस) अधिकारी और आईआईटी रूड़की से स्नातक हिमांशु त्यागी ने हाल ही में इस बारे में व्यावहारिक सुझाव साझा किए कि कैसे व्यक्ति खुद को “निर्मित…

3 बार UPSC में हुईं फेल, चौथी बार में रच दिया इतिहास मॉडलिंग छोड़ तस्कीन खान बनीं IAS

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा (CSE) क्रैक करने के लिए एस्पिरेंट्स को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है.  इस परीक्षा के लिए हर साल लाखों लोग तैयारी करते हैं…

This Post Has One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *