HOW TO WRITE ESSAY FOR UPSC IN HINDI

BY- SUPRIYA MISHRA

निबंध लगभग सभी परीक्षाओं के चयन में मुख्य भूमिका निभाती है। अगर सिविल सेवा परीक्षा की बात करे तो सामान्य अध्ययन के चारो प्रश्न पत्रों की अपेक्षाकृत निबंध के प्रश्नपत्र में कम मेहनत करके अधिक अंक लाए जा सकते हैं। आप 250 अंको के प्रश्नपत्र मे 160–170 अंक तक प्राप्त कर सकते हैं और लगभग सफल अभ्यर्थियों ने प्राप्त भी किए है।

हम एक तस्वीर के माध्यम से दिखाते हैं आपको सिविल सेवा परीक्षा के मुख्य पेपर में निबंध की कितने प्रतिशत भागीदारी होती है।

इस तस्वीर मे सम्पूर्ण परीक्षा के 2025 अंको का विभाजन दिखाया गया है।

आप के मन में एक बड़ा सवाल यह उठ रहा होगा कि आखिर निबंध की तैयारी कैसे की जाए? इसके लिए कौनसी किताब पढ़ी जाए?

तो यहाँ मे आपको स्पष्ट कर दूं कि कोई एक ऐसी किताब नहीं है जिसे पढ़कर आप रातो रात निबंध लिखना सीख जाएंगे।

अब, आप सोच रहे होंगे कि फिर ऐसा क्या है जो निबंध के प्रश्न पत्र मे आपको सहज और सफल बनाएगा?

दरअसल, संघ लोक सेवा आयोग के निबंधों की मूल प्रवृति ही रचनात्मक रही है। यहाँ आपसे इस बात की बहुत उम्मीद नहीं की जाती कि आप दिए गए विषय मे तथ्यों का विशाल पहाड़ खड़ा कर दे, बल्कि अधिक उम्मीद इस बात क की जाती है कि आप अपने रचनात्मक और कल्पनात्मक कौशल का परिचय देते हुए दिए गए विषय की अवधारणा को स्पष्ट करे। निबंध को नीरस व उबाऊ बनाने के बजाय सरस व रोचक बनाए

चलिये अब समझते हैं आखिर पढ़े क्या?

निबंध आपके संपूर्ण व्यक्तित्व का परीक्षण है। इससे आपकी संवेदना और आपकी सोच का पता चलता है। आपके निबंध लेखन में सहायक होगी कि आप नियमित रूप से अख़बारो के सम्पदाकीय है जो उसे अच्छे से पढ़े, उससे आपकी विषय के प्रति समझ बनती है। इसके अलावा, कुछ प्रसिध्द निबन्धकारो के निबंध पढ़े और यह समझने की कोशिश करे कि दिए गए विषय को किस तरह से लेखक ने कितने आयामों मे बांटा है और उनके क्या मनोभाव रहे हैं?

और हाँ कुछ प्रसिध्द महापुरुषों के कथन, शायरी, कविता भी याद कर ले, इनका एक संग्रह भी बना सकते हैं खासकर, गरीबी, न्याय, महिला,विज्ञान, धर्म, भ्रष्टाचार से जुड़े विषयों पर। जोकि आपके निबंध को रोचक बनाने में बहुत मदद करती है।

याद रहे कि निबंध लिखते समय आपको अपनी विचारधारा पर ध्यान रखना चाहिए।

आपकी विचारधारा जो भी हो बस आम जन के विरोध वाली नहीं होनी चाहिए, किसी लिंग, जाति व धर्म के प्रति अनुचित नहीं होना चाहिए, और अगर ऐसा है तो निश्चित रूप से इसका असर परीक्षक पर पड़ता है।

स्टेफेन कोवी ने एक बात कहा था – प्राथमिकताओं को समझना ही वास्तविक नेतृत्व है और उसका अनुकरण करना अर्थात् अनुशासन ही वास्तविक प्रबन्धन है।

उम्मीद है मेरा जवाब आपको निबंध लिखने सहायक साबित हो। धन्‍यवाद 🙏

MY NAME IS ADITYA KUMAR MISHRA I AM A UPSC ASPIRANT AND THOUGHT WRITER FOR MOTIVATION

Related Posts

UPSC MOTIVATION :-माता के निधन से टूट गई थीं रूपल, फिर शिद्दत से की मेहनत, अफसर बन मां को दी सच्ची श्रद्धांजलि

दिल्ली पुलिस में तैनात एएसआई जसवीर राणा की बेटी रूपल राणा ने यूपीएससी की परीक्षा में 26वां रैंक हासिल किया है. जसवीर राणा तिलक नगर थाने में…

कंपनी में जॉब के साथ की UPSC की तैयारी, अब किसान की बेटी बनी अपने इलाके की पहली IAS अन्नपूर्णा सिंह

बांका जिले की अन्नपूर्णा सिंह ने यूपीएससी 2023 में 99वीं रैंक हासिल की। अन्नपूर्णा सिंह मूलरूप से बांका जिले के लाहौरिया गांव की रहने वाली हैं। उनके…

IAS OFFICER ने बताया क्यों कम है यूपीएससी हिंदी में चयन । बताए अचूक उपाय

सिविल सेवा परीक्षा में हिन्दी माध्यम की वर्तमान स्थिति वास्तव में चिन्ताजनक बन गई है. पिछले कुछ वर्षों में प्रत्येक वर्ष इस प्रकार के परिणाम देख दुखी…

UPSC CSE 2023: देखें IAS ADITYA की मार्कशीट, ये है अब तक का हाईएस्ट स्कोर

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) ने सिविल सर्विसेज (CSE) के मार्क्स 2023 जारी कर दिए हैं। जो उम्मीदवार परीक्षा में सफल हुए हैं, वे आधिकारिक वेबसाइट upsc.gov.in…

पिता ने ठेले पर सब्जी बेचकर पढ़ाया, मृणालिका ने हासिल की 125वीं रैंक | UPSC MOTIVATION

जयपुर में रहने वालीं मृणालिका राठौड़ ने 16 अप्रैल को जारी हुए संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की सिविल सेवा परीक्षा में 125वीं रैंक हासिल की है।…

UPSC Topper Aishwarya: विशाखापट्टनम में इंजीनियर हैं अभी, दूसरे अटेंप्ट में क्लियर किया एग्जाम

UPSC Result 2023 महराजगंज जिले के बहदुरी के टोला मंझरिया की रहने वाली ऐश्वर्यम प्रजापति ने यूपीएससी की परीक्षा में 10वां रैंक लाकर क्षेत्र का नाम रोशन…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *