IAS Success Story: पिता ने की गार्ड की नौकरी,खेतों में किया

हौंसले हो बुलंद तो हर मुश्किल को आसां बना देंगे , 

छोटी टहनियों की क्या बिसात, हम बरगद को ही हिला देंगे ! 

वो और हैं जो बैठ जाते हैं थक कर मंजिल से पहले , 

हम बुलंद हौंसलों के दम पर आसमां को ही झुका देंगे ! 

साल 2015 में यूपीएससी (UPSC) द्वारा आयोजित की गई सिविल सेवा परीक्षा में 242वीं रैंक हासिल करने वाले कुलदीप द्विवेदी की. कुलदीप के पिता यूनिवर्सिटी में सिक्‍योरिटी गार्ड की नौकरी करते थे. कुलदीप के चार भाई-बहन हैं. सिक्‍योरिटी गार्ड की नौकरी करते हुए परिवार का पालन-पोषण करना आसान नहीं था. कई बार भरपेट खाना तक नहीं मिलता था.

कुलदीप लखनऊ से ताल्‍लुक रखते हैं.उनके पिता सूर्यकांत द्विवेदी लखनऊ विश्वविद्यालय में सुरक्षा गार्ड के तौर पर काम करते हैं और पांच लोगों के परिवार की परवरिश करते थे. कुलदीप के पिता को तब 11 सौ रुपये सैलरी मिलती थी. मुश्किल से परिवार का गुजारा हो पाता था. बच्चे बड़े होने लगे तो उनकी एजुकेशन की टेंशन बढ़ने लगी.

कुलदीप के बड़े भाई लखनऊ में डेरी की दुकान चलाते हैं जबकि दूसरे भाई लखनऊ हाईकोर्ट में वकालत करते हैं। उनकी बहन दिल्ली में रहकर सिविल सर्विस की तैयारी कर रही है।

गुजारे के लिए खेतों में किया काम
कुलदीप के पिता ने बच्‍चों को पढ़ाने के लिए गार्ड की नौकरी के साथ-साथ खेतों में भी काम करना शुरू कर दिया. वो दिन-रात मेहनत करते थे. इस तरह से उन्‍होंने चारों बच्‍चों की पढ़ाई-लिखाई पूरी कराई.

ऐसे शुरू की UPSC की तैयारी
कुलदीप द्विवदी ने 2009 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक किया था. 2011 में पोस्‍टग्रेजुएट किया. वो एग्‍जाम की तैयारी में जुट गए थे. इलाहाबाद में रहकर उन्‍होंने UPSC परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी. इस दौरान उनके पास मोबाइल नहीं था. वो पीसीओ से अपने घरवालों को फोन किया करते थे.

पहले प्रयास में मिली सफलता
2015 में कुलदीप ने आईएएस का एग्जाम दिया था और पहली बार में ही इसे क्‍वालीफाई कर लिया था.उन्‍होंने एग्जाम में 242वीं रैंक हासिल की थी. रैंक के हिसाब से उन्‍हें आईआरएस मिला. अगस्त 2016 में नागपुर में उनकी ट्रेनिंग शुरू हो गई. ट्रेनिंग के बाद कुलदीप की पहली पोस्टिंग असिस्टेंट कमिश्‍नर इनकम टैक्स ऑफिसर की पोस्ट पर हुई.

कुलदीप ने 2009 में इलाहाबाद विश्विद्यालय से ग्रैजुएशन किया उसके बाद वहीं से पोस्ट ग्रैजुएशन भी पूरा किया। पीजी करने के बाद कुलदीप सिविल सर्विस की तैयारी में लग गए। उनके पास उस समय मोबाइल भी नहीं था। उनकी जरूरत को देखते हुए उनके पिता ने पैसे जुटाकर उनके लिए मोबाइल खरीदकर दी।
 “I was determined that somehow I will have to crack the UPSC examination with a good rank. I kept myself engaged in academics. Luckily the family never troubled me in my pursuit. I’m now all ready to don the uniform and work for country’s development,” Kuldeep, a book lover, said 

TAG – Motivational Thoughts in Hindi, Motivational Stories in Hindi, Inspirational Quotes in Hindi, Motivational Quotes for Students in Hindi, IAS Motivation, Good Thoughts in Hindi, Thought of The Day in Hindi, Motivation for Students

MY NAME IS ADITYA KUMAR MISHRA I AM A UPSC ASPIRANT AND THOUGHT WRITER FOR MOTIVATION

Related Posts

दिहाड़ी मजदूर के बेटा-बेटी बने दरोगा, पिता को किया सैल्यूट तो भर आईं आंखें

आगरा में भाई-बहनों ने पुलिस में उपनिरीक्षक बनकर अपने मजदूर पिता का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया. पिता दिन-रात मेहनत करके छह हजार रुपये महीना कमाते…

बेटी हो तो ऐसी…डॉक्टरी की पढ़ाई छोड़ पूरा किया पिता का सपना, पहले IPS, फिर बनीं IAS

आईएएस मुद्रा गैरोला एक प्रेरणादायक व्यक्ति हैं जिन्होंने अपनी अद्भुत यात्रा और उपलब्धियों के लिए ध्यान आकर्षित किया है। उत्तराखंड में एक छोटे से गाँव में जन्मी…

MPPSC पास करके आंचल अग्रवाल बनी नायब तहसीलदार MPPSC का 3 साल बाद आया रिजल्ट

उमरिया जिले के चंदिया तहसील में पदस्थ नायब तहसीलदार कर्तव्य अग्रवाल की पत्नी आचल अग्रवाल का सिलेक्शन नायब तहसीलदार के पद पर हुआ है। 3 साल बाद…

5 बार दी UPSC परीक्षा, 2 बार हुए सफल, नौकरी के साथ की तैयारी, पहले IPS, फिर बने IAS

जिंदगी में छोटी असफलताओं से हारने वालों के लिए कृष्ण कुमार सिंह बड़ी प्रेरणा हैं. गाजियाबाद के रहने वाले इस लड़के ने हार मानने के बजाय अपनी…

IPS मनोज शर्मा जैसी है UP PCS टॉपर सिद्धार्थ की कहानी UPPCS TOPPER STORY

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग पीसीएस-2023 की परीक्षा में यूपी टॉपर सिद्धार्थ गुप्ता पढ़ाई के लिए कस्बे से निकलकर बड़े शहर में पहुंचे। जहां उन्होंने खुद को…

कभी होटलों में करते थे वेटर का काम, आज हैं IAS अधिकारी, सातवीं बार में मिली सफलता

आपको क्या लगता है सफलता पाने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी क्या है? आपके लिए सफलता के क्या मायने हैं? अगर आप खुद से यह प्रश्न पूछेंगे तो…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *